Sitemap Kya Hota Hai ब्लॉग के लिए साइटमैप कैसे बनाएं

Sakshi
1
स्वागत है आपका एक और लेख में. इस लेख में हम बात करेंगे कि साइटमैप क्या है (Sitemap kya hota hai)  ब्लॉग के लिए साइटमैप कैसे बनाते हैं.

यदि आपकी सिंगल पेज वेबसाइट है तो आपके लिए साइटमैप बनाना इतना जरूरी नहीं है लेकिन अगर आप ब्लॉग लिखते हैं और आपकी वेबसाइट में बहुत सारे वेबपेज हैं तो आपके लिए साइटमैप बनाना और इसके बारे में जानना बहुत आवश्यक है.

Sitemap kya hota hai
Sitemap kya hota hai

इस लेख में साइटमैप क्या है, SEO में साईटमैप क्यों महत्वपूर्ण है, साइटमैप के प्रकार, साइटमैप कैसे बनाएं तथा साइटमैप से संबंधित सभी जानकारी प्रदान करने का प्रयास किया गया है. यह सब जानने के लिए कृपया लेख में अंत तक बने रहें.

तो चलिए शुरू करते हैं Sitemap Kya Hota Hai पर यह महत्वपूर्ण लेख.

TOC

साइटमैप क्या है (What is Sitemap in Hindi)

Sitemap दो शब्दों Site और Map से मिलकर बना है. जिसमें Site का मतलब वेबसाइट और Map का मतलब नक्शा होता है. इस प्रकार Sitemap का शाब्दिक अर्थ वेबसाइट का नक्शा होता है.

Sitemap किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट का एक Structure होता है जो कि सर्च इंजन रोबोट्स और यूजर के लिए वेबसाइट की एक आसान संरचना बना देता है.

जिससे सर्च इंजन बॉट्स के लिए वेबसाइट के सभी पेज और पोस्ट को क्रॉल करना आसान हो जाता है और यूजर को ब्लॉग में कोई भी Information Find करने में आसानी हो जाती है.

साईटमैप क्यों जरुरी होता है (Why Sitemap is Important)

अब तक आप थोड़ा बहुत समझ गए होंगे की साइटमैप क्या होता है. अब SEO में साइटमैप के महत्व को समझने के लिए इसे एक उदाहरण के माध्यम से समझते हैं :-

मान लीजिए कि हमें किसी अंजान जगह की जानकारी प्राप्त करने के लिए जाना है और हमारे पास उस अंजान जगह का नक्शा नहीं है तो जाहिर सी बात है कि हमें उस अंजान जगह की जानकारी लेने में ज्यादा समय लगेगा और ये भी हो सकता है कि कई दिन बीत जाने के बाद भी हम उस अंजान जगह के बारे में ठीक से ना समझ सकें.

वहीं अगर हमारे पास उस जगह का पूरा नक्शा तैयार है तो हम नक्शे की मदद से काफी समय बचा सकते हैं और आसानी से उस जगह के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, साईटमैप भी ऐसा ही होता है. इस उदाहरण को हम वेबसाइट से जोड़कर देखें तो -

• आप, जिन्हें किसी अंजान जगह की जानकारी लेनी है, सर्च इंजन बॉट हैं.

• अंजान जगह आपकी वेबसाइट है.

• जो जानकारी आपको लेनी है वह आपके वेबसाइट की Information है यानी जो आपके पोस्ट और वेबपेज हैंं.

• और नक्शा आपकी वेबसाइट का साइटमैप है.


जिस तरह नक़्शे के इस्तेमाल से आपको किसी अंजान जगह की जानकारी हासिल करने में मदद मिलती है, उसी तरह सर्च इंजन रोबोट्स को साइटमैप के माध्यम से वेबसाइट को क्रॉल करने की सुविधा मिलती है. इसलिए Blog का Sitemap बनाना बहुत ही जरुरी होता है.

साइटमैप के प्रकार (Types of Sitemap in Hindi)

साइटमैप मुख्यतः दो तरह के होते हैं, जिनकी जानकारी इस प्रकार हैं :-

#1- XML Sitemap

XML Sitemap सर्च इंजन बॉट्स को ध्यान में रखकर बनाया जाता है. जब सर्च इंजन के बॉट किसी वेबसाइट को क्रॉल करने आते हैं तो उनके पास वेबसाइट क्रॉल करने के लिए एक निश्चित समय और संसाधन होते हैं. जिसे क्रॉल बजट कहा जाता है.

यदि वेबसाइट का स्ट्रक्चर सही नहीं होगा तो क्रॉलर को वेबसाइट क्रॉल करने में अधिक समय लगेगा, जिस वजह से वह सभी पोस्ट और पेज को क्रॉल नहीं कर पाएगा और वेबसाइट के सभी पेज इंडेक्स नहीं हो पाएंगे. इस समस्या से बचने के लिए XML Sitemap का उपयोग किया जाता है.

XML Sitemap बनाने से हम क्रॉलर को एक लिंक दे देते हैं और उस लिंक में हमारे सभी वेब पेज होते हैं, क्रॉलर जब हमारी वेबसाइट पर आता है तो उसे उस लिंक में हमारे सभी वेब पेज मिल जाते हैं और वह सभी वेबपेज को जल्दी क्रॉल कर लेता है. जिससे ब्लॉग पोस्ट Fast Index होते हैं और सर्च इंजन में जल्दी रैंक भी करते हैं.

#2- HTML Sitemap

HTML Sitemap वेबसाइट के विजिटर्स को ध्यान में रखकर बनाया जाता है, कई वेबसाइट्स पर नेविगेशन बार होता है, जिससे विजिटर्स को पोस्ट पढ़ने में आसानी होती है और वे लिंक के द्वारा अपनी पसंद की पोस्ट को एक्सेस कर पाते हैं.

यदि वेबसाइट का नेविगेशन बार ठीक से डिज़ाइन नहीं किया गया होता है और लिंक को संबंधित पोस्ट पर पुनर्निर्देशित नहीं किया गया होता है तो आगंतुकों को ब्लॉग पढ़ने में अधिक रुचि नहीं होती है और वे ब्लॉग को जल्द ही Exit लेते हैं. जिससे वेबसाइट का बाउंस रेट बढ़ जाता है जो कि सर्च इंजन के नजरिए से बिल्कुल भी सही नहीं होता है.

यही कारण है कि अपने आगंतुकों को अच्छा अनुभव देने के लिए वेबसाइट में HTML Sitemap का उपयोग किया जाता है.

XML Sitemap कैसे बनाएं

यदि आपकी वेबसाइट WordPress पर है बहुत सारे SEO Plugin उपलब्ध हैं जो आपके ब्लॉग का साईटमैप बना देते हैं, जैसे Rank Math इत्यादि.

अगर आपकी वेबसाइट ब्लॉगर पर है तो ब्लॉगर पर डिफॉल्ट साइटमैप होता है जो कि सिर्फ 26 पोस्ट तक के लिए ही होता है, यदि आपकी ब्लॉगर वेबसाइट पर 26 से ज्यादा आर्टिकल हैं तो उसके लिए अलग से साइटमैप बनाना होता है.

Blogger Sitemap Kaise Banaye

ब्लॉगर का साइटमैप बनाने और उसे ब्लॉगर में ऐड करने के लिए नीचे बताई गई प्रक्रिया को फॉलो करें :-

Step 1- साइटमैप बनाने के लिए आप Google पर Blogger Sitemap Generator सर्च करें. सर्च रिजल्ट में आपको बहुत सी ऐसी वेबसाइट मिल जाती हैं जहाँ से आप Sitemap जनरेट कर सकते हैं.

Step 2- Blogger Sitemap Generator वेबसाइट को Open कर लेंने के बाद पेज को थोड़ा सा नीचे स्क्रॉल कर लें, फिर यहां आपसे वेबसाइट का URL पूछा जाएगा आप अपनी वेबसाइट का URL दर्ज कर लें.

Step 3- अंत में Generate ऑप्शन पर क्लिक करें और User Agent से लेकर नीचे तक पूरा कोड कॉपी कर लें.

अब आपने ब्लॉगर के लिए Sitemap बना लिया है, आपको अब इस कोड को ब्लॉगर में Add करना है जो प्रक्रिया इस प्रकार है -

Step 1- आपको वापस आपने Blogger Dashboard में आ जाना है और Setting में Crawlers and indexing वाले option पर जाना है.

Step 2- अब आपको Custom robots.txt को Enable करना है और यहाँ पर आपको Sitemap के Code को पेस्ट कर देना है.

इतना करने के बाद आपके ब्लॉगर के 500 पोस्ट का Sitemap बनकर तैयार हो गया है. इस संख्या को आप अपने अनुसार बढ़ा सकते हैं.

500 से अधिक पोस्ट का साइटमैप बनाने के लिए नीचे लिखे कोड को कॉपी करें और अपने robots.txt कोड के अंत में पेस्ट कर दें, जिससे आपका 1000 पोस्ट का साइटमैप बनकर तैयार हो जाएगा.

https://www.yourwebsite.com/atom.xml?redirect=false&start-index=501&max-results=500.

इस तरह से आप आसानी से Blogger के लिए साइटमैप बना सकते हैं.

Robots.txt File क्या है

Robots.txt के माध्यम से हम किसी भी सर्च इंजन के रोबोट्स को निर्देश देते हैं कि हमारी वेबसाइट के कौन से पेज को सर्च इंजन पर इंडेक्स करना है और किस पेज को इंडेक्स नहीं करना है. सर्च इंजन बॉट्स हमारे द्वारा दिए गए निर्देशों का सख्ती के साथ पालन करते हैं.

Sitemap Add करते समय आपने ध्यान दिया होगा कि सबसे पहले User Agent * लिखा हुआ है, जिसका अर्थ है कि हम सभी सर्च इंजन रोबोट को निर्देश दे रहे हैं.

फिर allow लिखा हुआ है जिसका अर्थ है कि वह पेज सर्च इंजन बॉट्स द्वारा क्रॉल किए जाने चाहिए और जो Disallow है उसका अर्थ है कि वह पेज सर्च इंजन द्वारा क्रॉल नहीं किए जाने चाहिए.

यदि हम सिर्फ गूगल के बॉट्स को निर्देश देते हैं तो हम User Agent : Googlebots लिखेंगे और इसी तरह अगर हम बिंग के बॉट्स को निर्देश देते हैं तो हम User Agent : Bingbots का प्रयोग करेंगे.

FAQ Section:
प्रश्न :- SEO में साइटमैप क्या होते हैं?
उत्तर :- SEO में साइटमैप किसी भी वेबसाइट का एक स्ट्रक्चर होता है, जिसकी मदद से सर्च इंजन रोबोट्स को वेबसाइट को क्रॉल और इंडेक्स करने में आसानी होती है. इसके साथ ही साइटमैप सर्च इंजन बॉट्स को यह भी बताते हैं कि वेबसाइट में कौन से पेज महत्वपूर्ण हैं और कौन से पेज नहीं.

प्रश्न :- ब्लॉगर में Atom और Sitemap में क्या अंतर है?
उत्तर :- XML ​​साईटमैप एक साइट के अन्दर URL के पूरे सेट को डिस्क्राइब करता है. जबकि RSS/Atom फ़ीड ब्लॉग में हाल ही में हुए परिवर्तनों को डिस्क्राइब करता है.

प्रश्न :- Blogger ब्लॉग में Atom या XML साइटमैप में से किस साइटमैप का उपयोग करना ठीक है?
उत्तर :- ब्लॉगर ब्लॉग में XML साइटमैप का उपयोग करना उचित है क्योंकि इसमें आपकी वेबसाइट के सभी URL होते हैं. जबकि Atom में हाल ही में अपडेट किए गए Articles के URL होते हैं.

यह लेख भी पढ़ें -
        •  Canonical Tag क्या होता है
        •  ब्लॉग कैसे लिखें
        •  Blog पर Traffic कैसे बढ़ाएं
        •  SEO क्या है, SEO कैसे करें
        •  Keyword क्या होता है

आपने क्या सीखा: Sitemap in Hindi 

इस लेख के माध्यम से आपने जाना कि साइटमैप क्या होता है, SEO में साइटमैप क्यों जरुरी है, साइटमैप के प्रकार, साइटमैप कैसे बनाएं और Blogger में Sitemap Kaise Banaye इत्यादि.

उम्मीद है कि आपको Sitemap Kya Hota Hai, SEO में साइटमैप क्यों जरुरी है, साइटमैप के प्रकार, साइटमैप कैसे बनाएं लेख पसंद आया होगा. इस लेख को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर करें.

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें