बैकलिंक क्या हैं कैसे बनाएं (What is Backlink in Hindi)

Sandeep
2
आपकी कोई Website है या आप Blogger हैं तो आपने बैकलिंक का नाम तो जरूर सुना होगा लेकिन क्या आप जानते हैं कि बैकलिंक क्या हैं, (What is Backlink in Hindi) बैकलिंक कैसे बनाते हैं.

यदि आप नहीं जानते हैं तो कृपया इस आर्टिकल को अंत तक अवश्य पढ़ें, क्योंकि इस लेख में हम आपको Backlink Kya Hai, Backlink Kaise Banaye और बैकलिंक से संबंधित सभी विषयों के बारे में सटीक जानकारी देने जा रहे हैं.

जब भी हम Off Page SEO के बारे में बात करते हैं तो सबसे पहली चीज जो हमारे ध्यान में आती है वह है Backlink, यह बात काफी हद तक सच भी है, क्योंकि गूगल के अनेकों रैंकिंग फैक्टर्स में Backlink भी एक महत्वपूर्ण Ranking Signal है.

हालाँकि OFF Page SEO केवल बैकलिंक्स तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह उससे भी कहीं अधिक है, आज इस लेख के माध्यम से हम विस्तार से बैकलिंक्स और Search Engine Optimization में इसके महत्व के बारे में जानेंगे. तो चलिए दोस्तों बिना समय गंवाए जानते हैं इसे विस्तार से.

TOC

बैकलिंक क्या होते हैं (What is Backlink in Hindi)

बैकलिंक एक प्रकार का हाइपरलिंक होता है जो एक वेब पेज से दूसरे वेब पेज पर जाता है, दूसरे शब्दों में कहें तो जब कोई वेबसाइट अपने पेज पर किसी अन्य वेबसाइट के पेज का लिंक देती है तो उस लिंक को बैकलिंक कहा जाता है.

चलिए इसे एक उदाहरण से समझते हैं ताकि आपके लिए बैकलिंक को समझना और भी आसान हो जाए.

What is Backlink in Hindi

मान लीजिए कि एक वेबसाइट y है और उस वेबसाइट का लिंक किसी अन्य वेबसाइट z पर है, तो इसका मतलब यह होगा कि वेबसाइट y को वेबसाइट z से बैकलिंक मिला है.

इस उदाहरण से आप आसानी से समझ गए होंगे कि Backlink Kya Hai. अब जानते हैं कि बैकलिंक्स कितने प्रकार के होते हैं.

बैकलिंक के प्रकार (Types of Backlink in Hindi)

कुछ साल पहले तक लोग सिर्फ दो ही तरह के Backlinks को प्राथमिकता देते थे - Do Follow और No Follow. लेकिन साल 2021 में Google के नए Link Spam Update के कारण अब अन्य प्रकार के बैकलिंक भी महत्वपूर्ण हो गए हैंं.

Backlink मुख्य रूप से 4 प्रकार के होते हैं -

• DO-Follow-Backlink

• No-Follow-Backlink

• Sponsored Backlink

• UGC Backlink


आइए अब इन चारों प्रकार के बैकलिंक्स को विस्तार से समझते हैं.

1 - DO Follow-Backlink

जब किसी वेबसाइट पर किसी अन्य वेबसाइट का लिंक होता है, जिसमें उस वेबसाइट का ओनर सर्च इंजन को संकेत देता है कि इस वेबसाइट को फॉलो करो यह एक भरोसेमंद वेबसाइट है, तो उसे DO Follow Backlink कहा जाता है.

DO Follow Backlink में No follow का कोई भी Tag नहीं होता है, सर्च इंजन Do Follow Link को अधिक महत्व देते हैं, इसलिए इस प्रकार के बैकलिंक बनाने से धीरे-धीरे वेबसाइट की रैंकिंग में सुधार आता है.

DO-Follow attribute  

<a href= "https://xyz.com">Anchor text</a>

2 - No Follow Backlink

जब किसी वेबसाइट का लिंक किसी अन्य वेबसाइट पर होता है और उस वेबसाइट का Owner सर्च इंजन को संकेत देता है कि इस वेबसाइट को फॉलो न करें, बस किसी कारण से इस वेबसाइट का लिंक मेरी वेबसाइट पर है तो इसे No Follow Backlink कहा जाता है.

No Follow attribute

<a href="http://www.xyz.com/" rel="nofollow">Anchor text</a> 

3 - Sponsored Backlink

कोई भी बैकलिंक जिस पर Sponsored का टैग होता है उसे Sponsored Backlink कहा जाता है, लिंक पर Sponsored Attribute का उपयोग वेबसाइट पर सभी Paid Link जैसे गेस्ट पोस्ट, एफिलिएट लिंक या स्पॉन्सर लिंक आदि के लिए किया जाता है.

Sponsored attribute

<a href="http://www.xyz.com/" rel="sponsored">Anchor Text</a> 

4 - UGC Backlink

UGC का पूरा नाम User Generated Content है, इस attribute का उपयोग यूजर के द्वारा जेनरेट किए गए Links (यूजर द्वारा कमेंट में दिए गए बैकलिंक्स) के लिए किया जाता है, वैसे, जब भी कोई यूजर कमेंट करता है तो डिफॉल्ट रूप से उसमें UGC attribute जुड़ जाता है.

UGC attribute

<a href="http://www.xyz.com/" rel="ugc">Anchor Text</a>

बैकलिंक कैसे बनाएं (How to Create Backlink in Hindi)

वैसे तो बैकलिंक बनाने के अनेकों तरीके हैं लेकिन आगे हम उन्हीं तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके जरिए एक नया ब्लॉगर भी बैकलिंक्स बना सकता है.

1 - Guest Post के द्वारा

Guest Post बैकलिंक बनाने का सबसे बढ़िया और इफेक्टिव तरीका है, जिसके माध्यम से आप High Quality का Do Follow Backlink बना सकते हैं, गेस्ट पोस्ट के माध्यम से भी नए ब्लॉग पर ट्रैफिक आता है.

गेस्ट पोस्ट करने के लिए आपको अपने विषय से संबंधित किसी High Authority ब्लॉग के Owner से कॉन्टेक्ट करना होगा और गेस्ट पोस्ट के लिए Request करनी होगी.

यदि ब्लॉग का ऑनर गेस्ट पोस्ट के Request को Accept कर लेता है, तो आप उस ब्लॉग में गेस्ट पोस्ट करके एक High Quality वाला Backlink बना सकते हैं.

2 - Social Bookmarking के द्वारा

सोशल बुकमार्किंग एक वेब-आधारित सर्विस होती है जो वेबसाइट यूजर को कंटेंट खोजने, मैनेज करने, ऑर्गेनाइज्ड करने, स्टोर करने और शेयर करने की सुविधा देती है.

सोशल बुकमार्किंग वेबसाइटों का DA, PA बहुत अधिक होता है, आप इन वेबसाइटों पर अपना अकाउंट बना सकते हैं और वेबसाइट लिंक भी Add सकते हैं.

अगर आप Google पर Social Bookmarking Web List सर्च करेंगे तो आपको बहुत सारी वेबसाइट मिल जाएंगी जिन पर आप बैकलिंक बना सकते हैं. और अच्छा ट्रैफिक प्राप्त कर सकते हैं.

3 - Comment के माध्यम से 

आप अपने Niche से संबंधित High Authority वाले ब्लॉग पर कमेंट करके भी बैकलिंक बना सकते हैं, यह वेबसाइट के लिंक प्रोफाइल को मजबूत करने के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है, 

हालाँकि कमेंट के द्वारा अधिकांशतः No follow backlink ही मिलता है, और No Follow Backlink में कोई Link Juice पास नहीं होता है.

कमेंट के माध्यम से बैकलिंक बनाने के लिए आपको अपने Niche से संबंधित ब्लॉग पोस्ट पर कमेंट करते वक्त अपनी वेबसाइट का लिंक भी add करना है, कमेंट बैकलिंक बनाते समय आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए कि आपको स्पैमिंग नहीं करनी है.

4 - Forum Website के द्वारा

फ़ोरम वेबसाइट ऐसी वेबसाइट होती हैं जहाँ पर लोग सवाल - जवाब करते हैं, फोरम वेबसाइट पर भी No Follow Backlink मिलता है.

Google Question Hub या Quora जैसी फ़ोरम वेबसाइट पर आप अपने Blog Niche से संबंधित लोगों के प्रश्नों का उत्तर दें, साथ ही जवाब में अपनी वेबसाइट का लिंक Add करना ना भूलें, Forum Website से बैकलिंक मिलने के साथ-साथ ब्लॉग पर अच्छा ट्रैफिक आता है.

आपका ब्लॉग अगर अभी नया है तो आप शुरुवात में उपरोक्त चार तरीकों के द्वारा बैकलिंक बना सकते हैं.

किसी वेबसाइट के बैकलिंक कैसे चेक करें?

किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट के बैकलिंक Check करने के लिए अगर आप Google पर Backlink Checker टाइप करके सर्च करते हैं तो आपको कई सारे Tool मिलते हैं जिनके जरिए आप किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट के Backlink Check कर सकते हैं.

कुछ Backlink Checker Tool इस प्रकार हैं.

• ahref Backlink Checker 

• SEMrush Backlink Checker

• Neil Patel Backlink Checker आदि.


FAQ: What is Backlink in Hindi

प्रश्न - Anchor Text क्या होता है?
उत्तर - Anchor Text वह text होता है जिसके साथ एक Hyperlink जुड़ा होता है, जब हम अपने आर्टिकल में किसी Text पर Link देते हैं तो उसे Anchor Text कहा जाता है.

प्रश्न - Low Quality बैकलिंक क्या होता है ?
उत्तर - Low Quality वाले बैकलिंक ऐसे बैकलिंक होते हैं जो आपकी वेबसाइट की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा सकते हैं, ये बैकलिंक आमतौर पर स्पैम साइटों से आते हैं, इनकी अथॉरिटी कम होती है और यह Niche से भी Match नहीं करते हैं, जिसके कारण इनकी कोई वेल्यू नहीं होती है, इसलिए यह आवश्यक है कि आप अच्छे Quality वाले बैकलिंक प्राप्त करने का प्रयास करें.

प्रश्न - High Quality बैकलिंक क्या होता है?
उत्तर - जब आपकी वेबसाइट का लिंक किसी ऐसी वेबसाइट से आता है जिसकी Authority High है, जो विश्वसनीय है या आपके Niche से संबंधित है तो इसे High Quality Back Link कहा जाता है, इससे रैंकिंग में सुधार होता है और वेबसाइट की वैल्यू और अथॉरिटी भी बढ़ती है.

प्रश्न - Internal Linking क्या होती है ?
उत्तर - जब आप अपने ही एक वेबपेज में अपने किसी अन्य वेबपेज का लिंक देते हैं तो इसे इंटरनल लिंकिंग कहा जाता है.

प्रश्न - External Link क्या होता है ?
उत्तर - जब आप अपने ही वेबपेज में किसी दूसरी वेबसाइट को या उसके वेबपेज को लिंक करते हैं तो उसे एक्सटर्नल लिंक कहा जाता है.

यह लेख भी पढ़ें -
        • Image SEO Kaise Kare

निष्कर्ष: Backlink क्या हैं हिंदी में

इस लेख के माध्यम से अपने जाना कि बैकलिंक क्या हैं (What is Backlink in Hindi) और यह कितने प्रकार के होते हैं. इसके अलावा बैकलिंक से जुडी महत्वपूर्ण बातों के बारे में भी हमने इस लेख में आपको बताया.

सर्च इंजन रैंकिंग में BackLink एक Important फैक्टर होते हैं, इसलिए आपको कभी भी सिर्फ ज्यादा Backlink बनाने पर ही ध्यान नहीं देना चाहिए, हमेशा Quality वाले Backlink बनाने पर ध्यान देना चाहिए.

उम्मीद है आपको Backlink Kya Hai और Backlink Kaise Banaye से संबंधित यह जानकारी पसंद आई होगी. कृप्या इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर करें.

एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ
  1. विशाल वर्मा10:52 am

    Dear Edify Time, मैंने अब तक कई ब्लॉगिंग साइटें देखी हैं, लेकिन आपने सबसे अच्छी जानकारी पोस्ट की है और हर जगह नए कंटेंट के बैकलिंक भी दिए हैं. मैं बहुत संतुष्ट हूं, धन्यवाद दोस्त, ऐसे ही आगे बढ़ो..

    जवाब देंहटाएं
  2. Amisha bhardwaj10:54 am

    Brother, I benefited a lot from reading your blog post. Thankyou

    जवाब देंहटाएं
एक टिप्पणी भेजें