आँधी तूफ़ान किसे कहते हैं और यह कैसे आते हैं?

Sandeep
1
पृथ्वी पर प्रकृति में घटित होने वाली कुछ विनाशकारी घटनाओं को रोक पाना मनुष्य के लिए असंभव है, जिनमें भूकंप, ज्वालामुखी विस्फोट, सुनामी, बादल फटना या भयंकर आंधी-तूफ़ान का आना प्रमुख है.

आज के लेख के माध्यम से हम इन्हीं प्राकृतिक घटनाओं में से एक आंधी-तूफ़ान के बारे में जानेंगे, इस लेख में हम जानेंगे कि आंधी-तूफ़ान क्या हैं, आंधी-तूफ़ान आने के क्या कारण हैं, चक्रवात का निर्माण कैसे होता है आदि.

बिना किसी देरी के, चलिए शुरू करते हैं आंधी तूफ़ान किसे कहते हैं और यह कैसे आते हैं के बारे में यह महत्वपूर्ण लेख.

TOC

आँधी तूफ़ान किसे कहते हैं (Aandhi Tufan Kise kahate Hain)

आंधी एक तेज़ गति से चलने वाली वायु ज्वार होती है जो धूल के कणों के साथ चलती है, इसकी उच्चतम गति चारों दिशाओं में बहने वाली हवा से कई गुना अधिक होती है.

आंधी एक स्थानीय वायुमंडलीय घटना है और आमतौर पर एक छोटे से क्षेत्र में बहती है. इससे धूल उड़ने, छोटे पेड़-पौधों के टूटने और गिरने का खतरा रहता है, लेकिन यह तूफान के जितना भीषण नहीं होता है.

आँधी तूफ़ान किसे कहते हैं और यह कैसे आते हैं

वहीं, तूफान एक प्रकार का भीषण चक्रवाती तूफान होता है जिसमें वायुमंडलीय दबाव कई गुना बढ़ जाता है और यह भारी बारिश और गरज के साथ आता है, तूफान की अधिकतम गति 119 किमी/घंटा से अधिक होती है जिससे इसका प्रभाव बड़े क्षेत्रों में फैल जाता है. 

तूफान समुद्री धाराओं द्वारा उत्पन्न होते हैं और बड़ी क्षति का कारण बनते हैं, तूफान के दौरान घर, इमारतें, विशालकाय पेड़-पौधे उखड़ जाते हैं और विभिन्न जीवन के आधार प्रभावित होते हैं.

आंधी तूफ़ान क्यों और कैसे आते हैं (Aandhi Tufan Kaise Aata Hai)

आंधी और तूफान प्रकृति के शक्तिशाली प्रदर्शन हैं जो जीवन और संपत्ति को भारी नुकसान पहुंचा सकते हैं, इनकी उत्पत्ति के पीछे कई कारक हैं, जिनमें सूर्य, तापमान, हवा का दबाव, समुद्री हवाएं, चक्रवात, वायुमंडलीय दबाव, गुरुत्वाकर्षण और भूकंप शामिल हैं.

सूर्य का प्रभाव - सूर्य की गर्मी पृथ्वी के कुछ हिस्सों को गर्म करती है, जिससे तापमान बढ़ता है, बढ़ते तापमान से हवा का दबाव कम होता है, ठंडे स्थानों से अधिक दबाव वाली हवा गर्म क्षेत्र की ओर तेज़ी से बढ़ने लगती है, इस तेज़ हवा के साथ धूल भी उड़ती है जिससे धूल भरी आंधी का निर्माण होता है.

समुद्री हवाओं का प्रभाव - जब समुद्र का पानी भाप के रूप में ऊपर उठता है, तो नीचे की हवाएं कम होने लगती हैं, आसपास की समुद्री हवाएं तेज़ी से इन हवाओं की जगह भरने लगती हैं, इस प्रक्रिया से चक्रवात उत्पन्न होता है, जो तूफान का कारण बनता है.

अन्य कारक - वायुमंडलीय दबाव में बदलाव, गुरुत्वाकर्षण बल और भूकंप भी भयंकर तूफान का कारण बन सकते हैं.

सरल शब्दों में - जमीनी भाग से उठने वाली तेज हवाओं का चलना आंधी कहलाता है, समुद्र से उठने वाले चक्रवात को तूफान कहा जाता है.

चक्रवात कैसे बनते हैं (Chakrawat kaise bante hain)

चक्रवात समुद्र के गर्म पानी के ऊपर बनते हैं, जब समुद्र का तापमान बढ़ता है तो उसके ऊपर गर्म और नम हवा होने के कारण ऊपर उठने लगती हैं, जिससे उस हवा का क्षेत्र खाली हो जाता है और हवा का दबाव कम हो जाता है.

इस खाली जगह को भरने के लिए आसपास की ठंडी हवा वहां पहुंचती है, जिसके बाद यह नई हवा भी गर्म और नम होकर ऊपर उठती है, इससे एक चक्र शुरू होता है जिससे बादल बनने लगते हैं, जैसे-जैसे पानी वाष्पित होता है अधिक बादल बनते हैं.

जिसके बाद इन बादलों के केंद्र में हवा का दबाव बहुत कम हो जाता है और गर्म हवा नीचे से ऊपर और ऊपर से नीचे की ओर बहने लगती है, जिसमें हवाओं की गति बहुत तेज हो जाती है, जो कम दबाव वाले क्षेत्र में गोल-गोल घूमती रहती है और बवंडर या चक्रवात का रूप ले लेती है.

इसके बाद इन चक्रवातों का आकार बढ़ता जाता है और यह चक्रवात बादलों को अपने चारों ओर खींचकर आगे बढ़ता रहता है और अपने साथ बहुत तेज तूफान और मूसलाधार बारिश लेकर आता है, ये चक्रवात विशाल तूफ़ान का रूप ले लेते हैं और जान-माल के लिए अत्यधिक ख़तरा पैदा करते हैं.

दुनिया भर में भौगोलिक स्थिति और प्रभावित क्षेत्रों के आधार पर इन चक्रवातों को निम्न लिखित श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है - 

बवंडर (Tornado) - बवंडर अन्य चक्रवातों की तुलना में कम क्षेत्र को प्रभावित करता है लेकिन इसकी हवा की गति 200 किमी/घंटा तक होती है, इसके अंदर हवा का दबाव इतना कम होता है कि जब यह किसी इमारत के पास से गुजरता है तो उस हवा के दबाव से इमारत नष्ट हो जाती है.

सायक्लॉन (Cyclone) - यह चक्रवात पश्चिमी प्रशांत महासागर और भारत की बंगाल की खाड़ी के आसपास से उठने वाला एक चक्रवाती तूफान है और इसकी हवाएँ 140 किमी/घंटा तक बहती हैं.

टाइफून (Typhoon) - यह कम दबाव वाला चक्रवाती तूफान पश्चिमी प्रशांत महासागर से उठता है तथा जापान और पूर्वी चीन की ओर बढ़ता है और इस की गति 120 किमी/घंटा से अधिक होती है, जो 900 किमी से अधिक क्षेत्र को प्रभावित करता है.

हरिकेन (Hurricane) - यह चक्रवाती तूफान अटलांटिक या पूर्वी प्रशांत महासागर से उठता है और अमेरिकी महाद्वीप की ओर बढ़ता है, जो 190 किमी/घंटा की गति से बहता है.

आंधी तूफ़ान से बचने के उपाय (Aandhi toofan se bachne ke upay)

आंधी या तूफान से पहले भी मौसम पूरी तरह से खराब हो जाता है और इस आशंका के चलते इससे बचने के लिए कुछ उपाय किए जा सकते हैं, जिन्हें निम्न बिंदुओं से समझा जा सकता है -

• आंधी या तूफ़ान से पहले हवाएँ सामान्य हवाओं से थोड़ी तेज़ चलने लगती हैं, ऐसी स्थिति में किसी सुरक्षित स्थान पर चले जाना चाहिए.

• तूफ़ान आने से पहले खुले में पढ़ी हुई अव्यवस्थित वस्तुओं को व्यवस्थित ढंग से रख देना चाहिए ताकि वे उड़ कर आपसे ही आकर न टकराएं.

• अपने पशुओं को कहीं सुरक्षित स्थान पर बांधें

• घर के दरवाजे और खिड़कियां खोलकर नहीं बैठना चाहिए और अगर आप गाड़ी चला रहे हैं तो गाड़ी को साइड में लगाकर किसी सुरक्षित स्थान पर चले जाना चाहिए.

आंधी-तूफ़ान से होने वाली हानियाँ

आंधी-तूफ़ान से होने वाली क्षति बहुत भयानक रूप ले सकती है क्योंकि कभी-कभी ये पूरे घर को ही उड़ा ले जाते हैं. इसके अलावा अन्य हानियों को निम्नलिखित बिंदुओं से समझा जा सकता है -

• भयंकर आंधी-तूफान के कारण किसानों की फसलें नष्ट हो जाती हैं.

• कई बार तूफ़ान पुराने और मजबूत पेड़ों को जड़ से उखाड़ देता है.

• आंधी तूफान के दौरान बिजली इंफ्रास्ट्रक्चर में नुकसान होता है.

• भयंकर तूफ़ान में खुले में रखा सामान, गाड़ियाँ और कभी-कभी घर भी उड़ जाते हैं.


यह लेख भी पढ़ें - 

FAQ Section: आँधी तूफ़ान किसे कहते हैं और यह कैसे आते हैं.

प्रश्न - भारत में चक्रवाती तूफान कहाँ आते हैं?
उत्तर - भारत में चक्रवाती तूफान मुख्य रूप से पश्चिम बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु राज्यों में देखे जाते हैं.

प्रश्न - आंधी-तूफ़ान आने पर आस-पास क्या परिवर्तन दिखाई देते हैं?
उत्तर - आंधी-तूफ़ान आने पर आसपास के मौसम में काले बादल एवं ज्यादा मात्रा में धूल के कण दिखाई देते हैं.

प्रश्न - आंधी और तूफान को English में क्या कहते हैं.
उत्तर - आंधी और तूफान को अंग्रेजी में Storm and Tempest कहा जाता है.

प्रश्न - अब तक का सबसे खतरनाक तूफ़ान कौन सा है?
उत्तर - अब तक का सबसे भयंकर तूफान भोला तूफ़ान है जो 1970 में बांग्लादेश में आया था.

प्रश्न - चक्रवात क्या होता है?
उत्तर - चक्रवात एक प्रकार का भयंकर तूफ़ान है जो विशाल गोलाकार घूमने वाले कीप के आकार के बादलों और बारिश से भरा होता है, यह समुद्री क्षेत्र में कम वायुमंडलीय दबाव वाले स्थानों पर उत्पन्न होता है और अपनी तीव्र गति के कारण जन जीवन को भी प्रभावित करता है. 

प्रश्न - आंधी और तूफ़ान में क्या अंतर होता है?
उत्तर - आंधी और तूफान दोनों हवाई घटनाएं हैं, आंधी तेज धूल भरी हवाएं होती हैं जो जीवन या संपत्ति के लिए उतना खतरा पैदा नहीं करती हैं, जबकि तूफान चक्रवातों से उत्पन्न होते हैं जिनकी गति बेहद तेज होती है और अत्यधिक विनाशकारी होते हैं.

अंत में: आंधी तूफ़ान किसे कहते हैं और यह कैसे आते हैं हिंदी में

आंधी तूफान जटिल मौसम संबंधी घटनाएं हैं, जिनके बारे में हम अभी भी बहुत कुछ नहीं जानते हैं, वैज्ञानिक इन तूफानों का अध्ययन कर रहे हैं ताकि हम इनके खतरों को बेहतर ढंग से समझ सकें और इनसे बचाव के लिए बेहतर तरीके विकसित कर सकें.

इस लेख के माध्यम से आपने आंधी और तूफ़ान किसे कहते है, आंधी-तूफ़ान कैसे आते हैं, चक्रवात बनने का कारण, आंधी-तूफ़ान से बचने के उपाय, आंधी-तूफ़ान से होने वाली हानियाँ आदि के बारे में जाना. 

उम्मीद है आपको Aandhi toofan kise kahate hain से संबंधित यह जानकारी पसंद आई होगी. कृप्या इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर करें.

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें