इन्द्रधनुष क्या है और इन्द्रधनुष कैसे बनता है?

Sandeep
3
प्रकृति के अद्भुत नज़ारे हर तरफ फैले हुए हैं, बहते झरने, बरसते बादल और टूटते सितारे - ये सभी हमें अपनी ओर आकर्षित करते हैं, इन खूबसूरत दृश्यों में इंद्रधनुष का भी अपना एक विशेष स्थान है.

आपने भी ज़रूर कभी इंद्रधनुष (Rainbow) देखा होगा, सात रंगों का यह मनमोहक दृश्य प्रकृति की ओर से एक अद्भुत उपहार है, जो सभी को आनंदित करता है, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इंद्रधनुष क्या है और इन्द्रधनुष कैसे बनता है.

TOC

इंद्रधनुष क्या है (Indradhanush kya hai)

इंद्रधनुष एक प्राकृतिक प्रकाशिक घटना है जो आकाश में एक रंगीन चाप के रूप में दिखाई देता है, यह तब बनता है जब सूरज की रोशनी वर्षा की बूंदों से टकराती है और उनमें से परावर्तित और अपवर्तित (मुड़कर) होकर निकलती है.

इन्द्रधनुष क्या है और इन्द्रधनुष कैसे बनता है

इंद्रधनुष कैसे बनता है (Indradhanush kaise banta hai)

इंद्रधनुष एक प्राकृतिक घटना है जो बारिश के बाद अक्सर आकाश में दिखाई देता है, यह एक सुंदर रंगीन चाप होता है जिसमें सात रंग दिखाई देते हैं - लाल, नारंगी, पीला, हरा, नीला, आसमानी और बैंगनी. इंद्रधनुष बनने में तीन मुख्य चीजें सहायक होती है -

सूर्य का प्रकाश - सूर्य का प्रकाश सफेद होता है, जिसमें सभी दृश्यमान रंगों का मिश्रण होता है.

पानी की बूंदें - बारिश के बाद हवा में पानी की बूंदें मौजूद होती हैंं.

पर्यवेक्षक की स्थिति - इंद्रधनुष देखने के लिए, पर्यवेक्षक की पीठ सूर्य की ओर होनी चाहिए और बारिश उसके विपरीत दिशा में होनी चाहिए.

इंद्रधनुष कैसे बनता है -

अपवर्तन - जब सूर्य का प्रकाश पानी की बूंदों से होकर गुजरता है, तो यह अपवर्तित हो जाता है, इसका मतलब है कि प्रकाश की किरणें अपनी दिशा बदल देती हैं.


विक्षेपण - प्रत्येक रंग की प्रकाश किरणें थोड़ी अलग-अलग मात्रा में अपवर्तित होती हैं, लाल रंग की किरणें सबसे कम अपवर्तित होती हैं, जबकि बैंगनी रंग की किरणें सबसे अधिक अपवर्तित होती हैं, इस घटना को विक्षेपण कहा जाता है.

परावर्तन - अपवर्तित प्रकाश किरणें पानी की बूंद के अंदर से परावर्तित होती हैं और फिर दूसरी बार अपवर्तित होकर बाहर निकलती हैं.

विभाजन - जब प्रकाश किरणें पानी की बूंद से बाहर निकलती हैं, तो वे सात अलग-अलग रंगों में विभाजित हो जाती हैं.

दृश्यमानता - हम इंद्रधनुष को उस स्थान पर देखते हैं जहाँ से विभिन्न रंगों की अपवर्तित प्रकाश किरणें हमारी आँखों में प्रवेश करती हैं.

अब तक आप समझ गए होंगे कि इंद्रधनुष क्या है और इंद्रधनुष कैसे बनता है चलिए अब इंद्रधनुष के आकार और इसके रंगों के बारे में भी जान लेते हैं.

इंद्रधनुष का आकार

इंद्रधनुष, रंगों का वो मनमोहक कमान है, जो बारिश के बाद आकाश में दिखाई देता है, अक्सर हमें आधा चाप के रूप में दिखाई देता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह वास्तव में एक पूर्ण वृत्त होता है.

यह भ्रम पृथ्वी के गोलाकार होने और हमारी देखने की स्थिति के कारण पैदा होता है, जब सूरज की रोशनी पानी की बूंदों से टकराती है, तो यह परावर्तित होकर रंगों में बंट जाती है, ये रंग मिलकर एक गोलाकार चाप बनाते हैं.

लेकिन चूंकि हम ज़मीन पर खड़े होते हैं और पृथ्वी थोड़ी घुमावदार होती है, इसलिए हमें केवल इसका आधा हिस्सा ही दिखाई देता है, क्षितिज के नीचे का हिस्सा हमारी नज़रों से ओझल हो जाता है.

अगर हम किसी ऊँचे स्थान, जैसे पहाड़ की चोटी पर खड़े हों तो हमें पूरा इंद्रधनुष दिखाई दे सकता है, वहाँ से देखने पर यह एक पूर्ण वृत्त के रूप में नज़र आएगा.

इसीलिए, अगली बार जब आप इंद्रधनुष देखें तो याद रखें कि यह प्रकृति का एक अद्भुत चमत्कार है जो हमें न केवल रंगों की सुंदरता दिखाता है बल्कि पृथ्वी के गोलाकार होने का भी प्रमाण देता है.

इंद्रधनुष के रंग (Indradhanush ke rang)

इंद्रधनुष में सात रंग होते हैं, जिन्हें VIBGYOR नाम से याद रखा जाता है -

लाल (Lal)
नारंगी (Narangi)
पीला (Pila)
हरा (Hara)
नीला (Neela)
इंडिगो (Indigо)
बैंगनी (Bainganee)

यह क्रम हमेशा ऊपर से नीचे होता है, यानी लाल रंग सबसे ऊपर और बैंगनी रंग सबसे नीचे होता है.

इंद्रधनुष के यह रंग सूर्य के प्रकाश की किरणें पानी की बूंदों से अपवर्तित होने और परावर्तित होने के कारण बनते हैं, विभिन्न रंगों की प्रकाश किरणें अलग-अलग कोणों पर अपवर्तित होती हैं, जिसके कारण वे अलग दिखाई देती हैं और हमें इंद्रधनुष दिखाई देता है.

इंद्रधनुष में अन्य रंग भी होते हैं, लेकिन वे मानव आंखों को कम दिखाई देते हैं, जिनमें गुलाबी, सियान और फ़िरोज़ा जैसे अनेकों रंग शामिल हैं.

इंद्रधनुष के प्रकार (Indradhanush ke prakar)

इंद्रधनुष, प्रकृति का एक अद्भुत चमत्कार है जो अपनी सुंदरता और आकर्षण से सदैव मुग्ध कर देता है और हमें प्रकृति की भव्यता की याद दिलाता है इंद्रधनुष मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं -

1. प्राथमिक इंद्रधनुष - यह सबसे आम प्रकार का इंद्रधनुष है, जो सूर्य के प्रकाश और जल बूंदों के बीच की परस्पर क्रिया से बनता है, जब सूर्य का प्रकाश वर्षा की बूंदों में प्रवेश करता है, तो यह अपवर्तित (मुड़ता है), परावर्तित (वापस उछलता है) और फिर से अपवर्तित होता है, इस प्रक्रिया के दौरान, प्रकाश का श्वेत प्रकाश अपने घटक रंगों (लाल, नारंगी, पीला, हरा, नीला, आसमानी और बैंगनी) में विभाजित हो जाता है जो इंद्रधनुष के रंगों के रूप में दिखाई देते हैंं.

2. द्वितीयक इंद्रधनुष - यह प्राथमिक इंद्रधनुष की तुलना में कम चमकीला होता है और अक्सर इसके अंदर दिखाई देता है, यह तब बनता है जब सूर्य का प्रकाश जल बूंदों में दो बार परावर्तित होता हैै, द्वितीयक इंद्रधनुष में रंगों का क्रम उल्टा होता है, यानी बैंगनी सबसे ऊपर और लाल सबसे नीचे होता है.

अन्य दुर्लभ प्रकार के इंद्रधनुष
पूर्ण वृत्ताकार इंद्रधनुष - यह तब दिखाई देता है जब आप क्षितिज के स्तर पर या उसके नीचे होते हैं.

चंद्रधनुष - यह रात में चाँद की रोशनी से बनता है, लेकिन आम तौर पर यह इतना हल्का होता है कि मानव आँख इसे मुश्किल से ही देख पाती हैं.

कोहरे का इंद्रधनुष - यह कोहरे की बूंदों में बनता है और यह अक्सर सफेद रंग का दिखाई देता है.

इंद्रधनुष हमेशा सूर्य के विपरीत दिशा में दिखाई देते हैं, इसलिए यदि आप इंद्रधनुष देखना चाहते हैं, तो आपको अपनी पीठ सूर्य की तरफ करनी होगी.

क्या घर पर इंद्रधनुष बना सकते हैं?

बारिश के बाद इंद्रधनुष देखना एक अद्भुत अनुभव होता है, क्या आप जानते हैं कि आप घर पर भी इंद्रधनुष बना सकते हैं? यह एक मजेदार और आसान विज्ञान प्रयोग है जो बच्चों के साथ भी किया जा सकता है.

सूर्य का प्रकाश जब पानी की बूंदों, प्रिज्म या दर्पणों से टकराता है, तो यह अपवर्तित (मुड़) जाता है और अलग-अलग रंगों में टूट जाता है, ये रंग मिलकर इंद्रधनुष बनाते हैं.

बगीचे में पानी के पाइप से छिड़काव - यह सबसे आसान तरीका है, आप पाइप को ऊपर की ओर पकड़कर पानी छिड़क सकते हैं या फव्वारे का उपयोग कर सकते हैं, सूरज की रोशनी पानी की बूंदों पर पड़ेगी और इंद्रधनुष बन जाएगा.

दर्पण - दो दर्पणों को समकोण पर रखें, पहले दर्पण से टकराने वाली सूर्य की रोशनी दूसरे दर्पण पर और फिर पहले दर्पण पर प्रतिबिंबित होगी, इस प्रक्रिया में प्रकाश अपवर्तित हो जाएगा और एक इंद्रधनुष बन जाएगा.

इंद्रधनुष के बारे में रोचक तथ्य (Indradhanush ke bare me rochak tathya)

रंगों की संख्या - इंद्रधनुष में अनंत रंग होते हैं, लेकिन हमारी आँखें 7 रंगों - लाल, नारंगी, पीला, हरा, नीला, आसमानी और बैंगनी - को देख सकती हैंं.

पूर्ण वृत्त - पूरा इंद्रधनुष आप विशेष परिस्थितियों में देख सकते हैं, जब आप किसी ऊंचे स्थान पर खड़े हों और वहां झरना हो या बारिश के दौरान.

आप इंद्रधनुष नहीं छू सकते - इंद्रधनुष एक भौतिक वस्तु नहीं है, इसलिए आप इसे छू नहीं सकते, यह सूर्य के प्रकाश और जल बूंदों के बीच प्रकाशिकी का परिणाम है.

दिशा - इंद्रधनुष हमेशा सूर्य के विपरीत दिशा में दिखाई देता है, प्रातः सूर्योदय के समय पश्चिम में और शाम को सूर्यास्त के समय पूर्व में.

चांदनी में इंद्रधनुष - 'चांदनी इंद्रधनुष' चंद्रमा के प्रकाश से परावर्तित जल बूंदों द्वारा बनते हैं, जो रात में भी दिखाई दे सकते हैंं.

रंगों का महत्व - प्रत्येक इंद्रधनुष रंग का अपना प्रतीकात्मक अर्थ होता है, जैसे लाल (उत्साह), नारंगी (रचनात्मकता), पीला (ज्ञान), हरा (प्रकृति), नीला (शांति), आसमानी (निष्ठा), और बैंगनी (रहस्य).

दुर्लभ इंद्रधनुष - कोहरे वाले, चौथाई और लाल इंद्रधनुष सहित कई दुर्लभ प्रकार के इंद्रधनुष भी मौजूद हैंं.

वैज्ञानिक व्याख्या - सूर्य का प्रकाश जल बूंदों में प्रवेश करके टूट जाता है और परावर्तित होता है, जिससे इंद्रधनुष बनता है.

व्यक्तिगत अनुभव - प्रत्येक व्यक्ति इंद्रधनुष को थोड़े अलग रंगों के साथ देखता है, क्योंकि उनकी आंखें प्रकाश को अलग तरह से देखती हैं.

इंद्रधनुष बनाना - आप घर पर भी इंद्रधनुष बना सकते हैं! बस एक पाइप से पानी का छिड़काव करें और सूरज की रोशनी में देखें.

सबसे लंबा इंद्रधनुष - 2019 में हवाई में दुनिया का सबसे लंबा इंद्रधनुष देखा गया था, जो 370 मील (600 किलोमीटर) तक फैला था.

इंद्रधनुष के रंग याद रखने का एक तरीका - "ROY G. BIV" - लाल, नारंगी, पीला, हरा, नीला, इंडिगो और बैंगनी.

इंद्रधनुष और बारिश का संबंध - बारिश के बाद ही इंद्रधनुष दिखाई देते हैं, क्योंकि सूर्य के प्रकाश को अपवर्तित और परावर्तित करने के लिए जल बूंदों की आवश्यकता होती है.

इंद्रधनुष और खुशी - इंद्रधनुष को अक्सर ख़ुशी और सकारात्मकता से जोड़ा जाता है, जिसे अक्सर सौभाग्य के संकेत के रूप में देखा जाता हैै.

प्राकृतिक आश्चर्य - इंद्रधनुष एक प्राकृतिक आश्चर्य है जो हमें प्रकृति की शक्ति और सुंदरता की याद दिलाता है.

ये थे इंद्रधनुष के बारे में रोचक तथ्य, आशा है आपको इन्हें जानकर आनंद आया होगा.

FAQ Section: Indradhanush kya hai in hindi

प्रश्न- इंद्रधनुष क्या होता है?
उत्तर:- इंद्रधनुष एक प्राकृतिक ऑप्टिकल घटना है जो आकाश में एक रंगीन चाप के रूप में दिखाई देती है, ऊपर दिए गए लेख को पढ़कर आप जान सकते हैं कि रेनबो क्या है.

प्रश्न - इंद्रधनुष का निर्माण कैसे होता है?
उत्तर:- बारिश अथवा बादलों में पानी की सूक्ष्म बूंदों या कणों पर पड़ने वाली सूर्य की किरणों का अपवर्तन इंद्रधनुष बनने का कारण होता है, जब सूर्य की किरणें वर्षा की बूंदों द्वारा परावर्तित और अपवर्तित होती हैं, तो सूर्य में उपस्थित सभी सात रंग बिखर जाते हैं और इंद्रधनुष का निर्माण करते हैं.

प्रश्न - इंद्रधनुष बनने की प्रक्रिया को समझाइए?
उत्तर:- जब सूर्य की किरणें वर्षा की बूंदों पर पड़ती हैं तो उनका परावर्तन और अपवर्तन होता है, सूर्य के सभी रंग इस प्रक्रिया में अपवर्तित होकर अलग-अलग दिशाओं में बिखर जाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप इंद्रधनुष बनता है.

यह लेख भी पढ़ें -
            • वायु क्या है

निष्कर्ष: इन्द्रधनुष क्या है और इन्द्रधनुष कैसे बनता है

 इंद्रधनुष प्रकृति की एक अद्भुत रंग-बिरंगी छटा है जो हमें सदैव आकर्षित करती है।  यह रंगों का एक सुंदर मिश्रण है जो हमें आशा, खुशी और सौंदर्य की याद दिलाता है.

इंद्रधनुष की वैज्ञानिक व्याख्या सरल है, परन्तु इसका प्रभाव गहरा और रहस्यमय है, विभिन्न संस्कृतियों में इसकी व्याख्या भिन्न-भिन्न रूपों में की जाती है, कुछ इसे देवताओं का दूत मानते हैं, तो कुछ इसे सौभाग्य का प्रतीक.

इंद्रधनुष हमें प्रकृति के प्रति कृतज्ञता का भाव जगाता है, यह हमें सिखाता है कि जीवन में रंगों की विविधता होनी चाहिए और हर रंग का अपना महत्व होता है.

इस लेख में आपने जाना कि इंद्रधनुष क्या होता है, इंद्रधनुष कैसे बनता है, इंद्रधनुष का आकार, इंद्रधनुष के रंगों के नाम, और इंद्रधनुष से जुड़े कुछ Interesting Fact आदि.

उम्मीद है आपको इन्द्रधनुष क्या है और इन्द्रधनुष कैसे बनता है लेख पसंद आया होगा. लेख को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

एक टिप्पणी भेजें

3 टिप्पणियाँ
  1. Sushmita Negi2:22 pm

    You have given very good information about rainbow, we like every article of yours.

    जवाब देंहटाएं
  2. Nisha Yadav2:23 pm

    This is a very good site for every information along with studies.

    जवाब देंहटाएं
  3. Edify Time'2:24 pm

    Thank you, always keep the same vision

    जवाब देंहटाएं
एक टिप्पणी भेजें