पित्त की पथरी कैसे होती है और इसका इलाज क्या है?

Sandeep
0
हमारा शरीर एक जटिल प्रणाली है, जो भोजन को पचाने, पोषक तत्वों को अवशोषित करने और ऊर्जा प्रदान करने जैसी अनेक महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं को सहजता से करता है, इस अद्भुत प्रणाली में पाचन तंत्र महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, इस पाचन तंत्र में पेट, छोटी आंत, बड़ी आंत, यकृत, अग्नाशय, पित्ताशय और कई अन्य अंग शामिल हैं.

इस लेख में हम पाचन तंत्र के महत्वपूर्ण अंग, पित्ताशय (गॉलब्लैडर) में बनने वाली पित्त पथरी के बारे में विस्तृत जानकारी देंगेे, इसमें हम पित्त की पथरी के लक्षण, कारण, पित्त की पथरी का इलाज, घरेलू उपचार और किन चीजों से परहेज करना चाहिए, इन सभी के बारे में जानेंगे.

TOC

पित्त की पथरी क्या है?

मानव पाचन तंत्र में स्थित पित्ताशय (गॉलब्लैडर) एक महत्वपूर्ण अंग हैै जो कि यकृत के नीचे, पेट के दाएं ऊपरी भाग में स्थित होता है, यह पित्त नामक पाचक द्रव को संग्रहित करता है जो कि यकृत द्वारा निर्मित होता हैै, पित्त में मौजूद कुछ रसायन पित्त पथरी (गॉलस्टोन) बनाते हैं, जो गॉलब्लैडर के अंदर बनने वाले कठोर पदार्थ होते हैंं.

पित्त का मुख्य कार्य वसा को पचाने में मदद करना होता है, जब हम वसायुक्त भोजन करते हैं, तो पित्ताशय संकुचित होकर पित्त को छोटी आंत में निष्कासित करता है, यह पित्त वसा को छोटी बूंदों में इमल्सिफाई करके उन्हें पचाने और आंतों द्वारा अवशोषित करने में अधिक सुगम बनाता है.

लेकिन कभी-कभी पित्त में मौजूद पदार्थ जैसे कोलेस्ट्रॉल, कैल्शियम और बिलीरुबिन, क्रिस्टलीकृत हो जाते हैं और पित्त पथरी बनाते हैं, ये पथरी आकार में छोटे रेत के दाने से लेकर बड़े अखरोट के आकार तक हो सकते हैैं.

पित्त की पथरी का इलाज

पित्त की पथरी के प्रकार 

संरचना के आधार पर पित्त पथरी (Gallstones) के तीन मुख्य प्रकार होते हैं.

कोलेस्ट्रॉल पथरी - ये सबसे आम प्रकार की पथरी हैं, जो 80% मामलों में होती हैं, ये मुख्य रूप से कोलेस्ट्रॉल से बनी होती हैं और पीले, सफेद या हरे रंग की होती हैं.

वर्णक पथरी - ये पथरी कम आम हैं, जो केवल 15% मामलों में होती हैं, ये बिलीरुबिन से बनी होती हैं और गहरे भूरे या काले रंग की होती हैं.

मिश्रित पथरी - ये पथरी कोलेस्ट्रॉल और बिलीरुबिन दोनों से बनी होती हैं और ये 5% मामलों में होती हैं.

पित्त की पथरी के लक्षण

अधिकांश लोगों में, पित्त पथरी के लक्षण नहीं होते हैं, लेकिन यदि पथरी पित्त नली में चली जाती है तो इससे तीव्र दर्द और अन्य लक्षण हो सकते हैं.

दर्द - पित्ताशय की पथरी के कारण होने वाला दर्द अचानक, तेज और तीव्र हो सकता है यह आपके पेट के ऊपरी दाएं हिस्से या दाहिने कंधे में महसूस हो सकता है, दर्द कई घंटों तक रह सकता है.

मतली और उल्टी - पित्ताशय की पथरी से मतली और उल्टी भी हो सकती है.

बुखार - यदि पित्ताशय की थैली में सूजन या संक्रमण है, तो आपको बुखार हो सकता है.

पीलिया - यदि पित्त नली अवरुद्ध है तो इससे आपके रक्त में बिलीरुबिन का निर्माण हो सकता है जिससे आपकी त्वचा और आंखें पीली हो सकती हैं.

मल मूत्र - यदि पित्त नली अवरुद्ध है, तो आपके मूत्र का रंग गहरा हो सकता है और मल हल्के रंग का हो सकता है.

पित्त की पथरी के मुख्य कारण

पित्त की पथरी (गॉलस्टोन) बनने के कई संभावित कारण हैं,
यदि आपके पित्त में बहुत अधिक कोलेस्ट्रॉल होता है तो यह क्रिस्टलीकृत होकर पित्त पथरी बना सकता है यदि पित्ताशय पूरी तरह से या नियमित रूप से खाली नहीं होता है तो पित्त गाढ़ा हो सकता है और पथरी बन सकती है.

इसके अलावा अधिक वजन या मोटापा, कुछ दवाएं (जैसे गर्भनिरोधक गोलियां, कुछ कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवाएं), गर्भावस्था और उच्च एस्ट्रोजन का स्तर पित्त पथरी के खतरे को बढ़ा सकते हैं, चिकित्सा स्थितियां, आनुवंशिकी, मधुमेह, अचानक वजन कम होना और कुछ खाद्य पदार्थ जैसे वसायुक्त भोजन, तले हुए भोजन, परिष्कृत अनाज (जैसे सफेद ब्रेड, सफेद पास्ता, और सफेद चावल), चीनी और मीठे पेय पदार्थ भी पित्त पथरी का कारण बन सकते हैंं.

पित्ताशय की पथरी का निदान

पित्ताशय की पथरी का निदान करने के लिए उपयोग किए जाने वाले कुछ परीक्षणों में शामिल हैं - 


रक्त परीक्षण - रक्त परीक्षण आपके डॉक्टर को आपके यकृत और पित्ताशय की थैली के कार्य का आकलन करने में मदद कर सकते हैं.

अल्ट्रासाउंड - अल्ट्रासाउंड एक इमेजिंग परीक्षण है जो आपके पित्ताशय की थैली और पित्त नलिकाओं की तस्वीरें लेने के लिए ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है.

सीटी स्कैन - सीटी स्कैन एक प्रकार का इमेजिंग परीक्षण है जो आपके पित्ताशय की थैली, पित्त नलिकाओं और आसपास के अंगों की विस्तृत तस्वीरें लेने के लिए एक्स-रे का उपयोग करता है.

MRCP - MRCP (मैग्नेटिक रेजोनेंस कोलेगियोपैनक्रिएटोग्राफी) एक प्रकार का इमेजिंग परीक्षण है जो आपके पित्ताशय की थैली, पित्त नलिकाओं और अग्नाशय की तस्वीरें लेने के लिए चुंबकीय क्षेत्र और रेडियो तरंगों का उपयोग करता है.

पित्त की पथरी का इलाज

पित्त की पथरी के लिए कई प्रकार के इलाज उपलब्ध हैं, जिनमें शामिल हैं -

दवाएं - डॉक्टर पित्त की पथरी को निकालने के लिए दवाएँ लिख सकते हैं, ये दवाएँ पित्त लवण की घुलनशीलता को बढ़ाकर पथरी को तोड़ने में मदद करती हैं, यह उपचार उन रोगियों के लिए एक विकल्प हो सकता है जिनके लिए सर्जरी जोखिम भरा है या जिनकी स्वास्थ्य स्थिति सर्जरी के लिए अनुकूल नहीं है, या जो सर्जरी से बचना चाहते हैं.

ERCP - एंडोस्कोपिक रेट्रोग्रेड कोलंगियोपैनक्रिएटोग्राफी (ERCP) एक नैदानिक ​​प्रक्रिया है जिसमें पित्त नलियों और अग्नाशय वाहिनी में रुकावटों का पता लगाने और उनका इलाज करने के लिए एक एंडोस्कोप का उपयोग किया जाता है, यदि छोटे पथरी का पता चलता है, तो उन्हें ERCP के दौरान ही हटाया जा सकता है.

लेप्रोस्कोपिक सर्जरी - यह पित्ताशय की पथरी के इलाज के लिए सबसे आम प्रकार की सर्जरी है, इस प्रक्रिया में, पेट में तीन या चार छोटे चीरों के माध्यम से एक दूरबीन (लैप्रोस्कोप) और विशेष शल्य चिकित्सा उपकरण डाले जाते हैं, लैप्रोस्कोप का उपयोग पित्ताशय की थैली को देखने के लिए किया जाता है और विशेष शल्य चिकित्सा उपकरणों का उपयोग पित्ताशय की थैली को हटाने के लिए किया जाता है.

ओपन कोलेसिस्टेक्टॉमी - यह एक प्रकार की सर्जरी है जिसमें पित्ताशय की थैली को हटाने के लिए पेट में एक बड़ा चीरा लगाया जाता है, इसका उपयोग आमतौर पर उन मामलों में किया जाता है जब लैप्रोस्कोपिक पित्ताशय की थैली हटाना संभव नहीं होता है.

पित्त की पथरी के लिए घरेलू उपचार

पित्त की पथरी का इलाज पथरी के आकार, लक्षणों की गंभीरता और रोगी के समग्र स्वास्थ्य सहित कई कारकों पर निर्भर करता है, अधिकांश मामलों में पित्त की पथरी का इलाज ऑपरेशन के बिना, दवाओं, आहार या जीवनशैली में बदलाव के साथ सफलतापूर्वक किया जा सकता है. जो इस प्रकार हैं -

पुदीना - पुदीना पित्त प्रवाह को बढ़ावा देने और पाचन में सुधार करने में मदद करता है, आप पुदीने की चाय पी सकते हैं या ताजे पुदीने को अपने भोजन में मिला सकते हैं.

अदरक - अदरक में सूजन-रोधी गुण होते हैं जो पित्तशय की थैली के दर्द और सूजन को कम करने में मदद करते हैं, आप अदरक की चाय पी सकते हैं या ताजे अदरक को अपने भोजन में मिला सकते हैं.

कड़वा - कड़वा जड़ी बूटी जिसे चिकोरी या एंडिविआ के नाम से भी जाना जाता है, पित्त को पतला करने और पथरी को घुलने में मदद करती है, आप कड़वे का काढ़ा पी सकते हैं या इसे सप्लीमेंट के रूप में ले सकते हैं.

बोझी - बोझी (कटुकी) एक ऐसी जड़ी बूटी है जो पित्त प्रवाह को बढ़ावा देने और पाचन में सुधार करने में मदद करती है, आप बोझी का काढ़ा पी सकते हैं या इसे सप्लीमेंट के रूप में ले सकते हैं.

हल्दी - हल्दी में शक्तिशाली सूजन-रोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो पित्तशय की थैली के दर्द और सूजन को कम करने में मदद करते हैं.

बिलबेरी - बिलबेरी, जिसे ब्लूबेरी या यूरोपियन ब्लूबेरी के नाम से भी जाना जाता है, इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो पित्ताशय की थैली की सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं, आप बिलबेरी सप्लीमेंट के रूप में ले सकते हैं.

गाजर - उच्च फाइबर और पानी की मात्रा पित्त को पतला करने और पथरी को घोलने में मदद करती है, इसके अतिरिक्त, फाइबर पाचन में सुधार करता है, जिससे पित्त के ठहराव और पथरी निर्माण की संभावना कम हो जाती है.

नींबू पानी - विटामिन सी और साइट्रिक एसिड पित्त प्रवाह को बढ़ावा देने और पाचन में सुधार करने में मदद करते हैं, नींबू पानी में एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं जो पित्ताशय की थैली की सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं.

सेब का सिरका - एसीटिक एसिड पित्ताशय की थैली को खाली करने और पित्त पथरी के निर्माण को रोकने में मदद करता है, सेब का सिरका रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने और वजन कम करने में भी मदद कर सकता है, जो पित्ताशय की पथरी के खतरे को कम करने में योगदान कर सकता है.

पित्त की पथरी में क्या नहीं खाना चाहिए

पित्त की पथरी से बचाव के लिए, कम ऑक्सालेट वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें, जैसे कि हरी पत्तेदार साग, शकरकंद, गाजर और मशरूम. 

साबुत अनाज, दुबला प्रोटीन (जैसे फलियां, सोया दही, और टोफू) और स्वस्थ वसा (जैसे नारियल तेल, नट्स और जैतून का तेल) का सेवन भी बढ़ाएं, संतृप्त वसा (लाल मांस, पूर्ण वसा वाले डेयरी उत्पाद और तले हुए भोजन) का सेवन सीमित करें.

पित्त की पथरी से बचाव के लिए कुछ अन्य सुझाव

पथरी से बचाव के लिए तनाव कम करना महत्वपूर्ण है, तनाव कोर्टिसोल नामक हार्मोन के स्तर को बढ़ाता है जो पित्ताशय द्वारा पित्त रस के उत्पादन को उत्तेजित कर सकता है, इससे पित्त की पथरी की समस्या बढ़ सकती है. योग, ध्यान और गहरी सांस लेने जैसी गतिविधियां, तनाव कम करने में मददगार हो सकती हैं.


नियमित व्यायाम से वजन कम करने और पित्त पथरी के खतरे को कम करने में भी मदद मिलती है, खूब पानी पीना, स्वस्थ आहार खाना और धूम्रपान और शराब से बचना भी महत्वपूर्ण है.

पित्त की पथरी के संभावित दुष्प्रभाव

पित्ताशय की पथरी (गॉलस्टोन) से पेट के ऊपरी दाहिने हिस्से में तेज, ऐंठन वाला दर्द, मतली, उल्टी, अपच और भूख न लगना जैसे लक्षण हो सकते हैं, गंभीर जटिलताओं में पित्ताशय की थैली में सूजन, पित्त नली में रुकावट, अग्नाशयशोथ और पित्ताशय की थैली का टूटना शामिल है, जो जानलेवा भी हो सकते हैं, पित्ताशय की पथरी पित्त नली और यकृत को भी क्षति पहुंचा सकते हैं.


पित्त की पथरी का ऑपरेशन कब करवाना चाहिए?

यह निर्णय लेना कि आपको पित्त की पथरी का ऑपरेशन कब करवाना चाहिए, एक जटिल प्रक्रिया है जिसके लिए योग्य गैस्ट्रोएंटरोलॉजिस्ट या सर्जन से सलाह लेना सबसे महत्वपूर्ण है, वे आपके मेडिकल इतिहास, लक्षणों की गंभीरता, पित्त की पथरी के प्रकार और समग्र स्वास्थ्य स्थिति सहित कई कारकों पर विचार करके आपको व्यक्तिगत सलाह दे सकते हैं.


कभी-कभी, हल्के लक्षणों वाले पित्त पथरी के मामलों में, डॉक्टर आहार परिवर्तन, दवाओं या प्रतीक्षा की सलाह दे सकते हैं, लेकिन यदि आपको पेट में तेज दर्द, बुखार, पीलिया (त्वचा और आंखों का पीला पड़ना), पित्ताशय की सूजन (कोलेसिस्टिटिस) जैसे गंभीर लक्षण अनुभव होते हैं, तो आपको तत्काल सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है.

यह लेख भी पढ़ें - 

FAQ Section: Pitt ki pathri ka ilaj

प्रश्न - क्या महिलाओं में पित्त की पथरी होने का खतरा अधिक होता है?
उत्तर - एस्ट्रोजन हार्मोन महिलाओं में पित्ताशय की पथरी होने की संभावना को बढ़ाता है, यह पित्त में कोलेस्ट्रॉल की घुलनशीलता को कम करता है और पित्ताशय की थैली की गतिशीलता को धीमा कर सकता है, जिससे पित्त जमा होता है और पथरी बन सकती है.

प्रश्न - क्या पित्ताशय के बिना रहा जा सकता है?
उत्तर - हाँ, यदि शरीर को ज़रूरत पड़ी तो पित्ताशय के बिना रह सकते हैं, लेकिन इससे पाचन पर थोड़ा असर पड़ सकता है, पित्ताशय को हटा दिए जाने के बाद, पित्त सीधे यकृत से छोटी आंत में जाता है.

प्रश्न - क्या आप खान-पान में बदलाव करके पित्त की पथरी को रोक सकते हैं?
उत्तर - जी हां, ऊपर दिए गए लेख में आपको बताया गया है कि पित्ताशय की पथरी को रोकने के लिए आप किस तरह का आहार ले सकते हैं, आप हर उपाय को पढ़ कर जान सकते हैं कि कैसे पित्त की पथरी को रोका जा सकता है.

निष्कर्ष: पित्त की पथरी का इलाज हिंदी में

उचित उपचार और रोकथाम के उपायों के साथ, आप पित्त की पथरी से बच सकते हैं और स्वस्थ जीवन जी सकते हैं इसके लिए आप अपनी जीवनशैली में बदलाव करें और यदि आपको पित्त की पथरी का खतरा अधिक है तो डॉक्टर से परामर्श लें.

इस हिन्दी लेख में आपने जाना कि पित्त Stone कैसे बनता है, पित्त की पथरी कितने प्रकार की होती हैं, पित्त की पथरी के घरेलू उपाय, पथरी होने पर हमें क्या परहेज करना चाहिए और इसके नुकसान क्या हैं आदि.

उम्मीद है आपको Pitt ki Pathri ka ilaj के बारे में यह लेख पसंद आया होगा. यदि हां, तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर करें.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)